Wednesday, August 31, 2016

Myth and reality of Mother Teresa




Myth and reality of Mother Teresa

All saints are manufactured by religious organizations. Mother Teresa is no exception.
Remember Bhopal tragedy? ( city in Madhya Pradesh state of India). It happened on 3rd December 1984 in the early hours. 3,800 workers in Union carbides factory died in their sleep due to leakage of methyl isocyanate gas. It was total shock to the civilized world. At that juncture Mother Teresa flew from Kolkata city to Bhopal. She had not gone there to console the families of the victims but to plead that the management of Union Carbide be forgiven. That is Mother Teresa! The factory was closed and management paid compensation after 20 years.
Sushan Sheilds who worked with Mother Teresa for 9 years dealing with her accounts of donations revealed that there was $ 50 million in New York Bank .The amount was received by various donors. That amount was supposed to be spent for poor, destitute children in her charity homes. She never bothered about the ethics of donors.
Robert Maxwell, the mega publisher who embezzled the employes funds to the tune of 450 million pounds, donated $ 1.25 million to Mother Teresa. And she was aware of the facts about Robert Maxwell.
The inhuman dictator of Haiti Jean Claude Duvalier honored Mother Teresa .She flew all the way to Haiti to receive the honors. She praised him as kind person who helped poor people while the fact was that he tortured Haitians. He fled the country in 1986 and returned in 2011.He was arrested . He tortured people and killed several persons during his regime. At that time Mother Teresa received honors! Jean Claude escaped from the country to return in 2011 and he was promptly arrested.
Mother Teresa received $ 1.25million from Charles Keating in California, USA. He floated a company called Keating Savings and Loans during 1980.He cheated the public to the tune of $250 million .He was arrested and imprisoned. During his trial Mother Teresa appealed to the judge , requesting him to pardon Keating. Then Paul Turley, deputy attorney of Los Angeles asked Mother Teresa to return the amount so that it could be distributed to the victims of Keating . Mother Teresa observed stoic silence !
Mother Teresa visited the grave site of Albanian dictator and nobody knew why she did that.
When Indira Gandhi, the prime minister of India imposed emergency during 1975 and suspended constitutional fundamental rights of citizens, Mother Teresa praised her saying that the people were happy, and the unemployment problem of India was solved! Later Mother Teresa received Bharat Ratna , the highest honor from government of India.
Dr Robert Fox, editor of Lancet , medical science magazine from UK visited the charity homes of Mother Teresa in Kolkata, India during 1990s. He found that volunteers without any medical knowledge attend sick patients and the treatment was hazardous. No medicines were administered to sick children in homes including analgesics. The syringes were not sterilized. He pointed out these things to Mother Teresa but she coolly replied that children need no medicines since prayers would cure them.
During Bangla Desh war with Pakistan in 1970s scores of women refugees flew to India. Among them several were rape victims. Mother Teresa opposed termination of pregnancies in the name of divine grace.
Walter Weber , after thorough research about the funds received by Mother Teresa published articles in Stern magazine in Germany in 1998. Germany alone donated $ 3 million annually to Mother Teresa charity homes. There was absolute secrecy about the donations received by Mother Teresa.
In 1975 Indira Gandhi, prime minister of India imposed draconian measures to suppress fundamental rights of the constitution and put several leaders in prison. Mother Teresa praised Indira Gandhi saying the prople were happy with that measure and employment was better.
Later Mother Teresa got Bharat Ratna, the highest honor in India, but it may not be related to her praise of Indira Gandhi.
Robert Fox, editor of Lancet, medical journal from UK visited Kolkata and observed the homes of Mother Teresa. He found that syringes were not washed in hot water and even minimum medicines like analgesics were not administered to children when they fell sick. Volunteers without any medical knowledge administered medical aid to children. When he brought these things to the notice of Mother Teresa she coolly replied that Jesus will take care of them and prayer will cure their diseases.
Treatment to Mother Teresa
Mother Teresa was sick and had to be admitted several times into hospitals. Those are corporate nursing homes which were very expensive.
She was in Nanavati Hospital in Mumbai which is highly expensive.
Twice she suffered heart attacks and treated in hospitals. During 1989 she received cardiac pacemaker.
During 1996 she was in intensive care after suffering heart failure.
Earlier she suffered with pneumonia during 1991.She broke her color bone in 1997.
Catholics, Pope and Mother Teresa should be thankful to doctors and medical science for curing her and discharged from corporate hospitals. Of course, she deserves such treat just as any other human being.
But Mother Teresa did not extend similar treatment nor facilities to children in her charity homes. There were advised to pray. When one patient in her charity homes was suffering and dying with cancer, Mother Teresa told him that Jesus must be kissing him. The patient immediately asked Mother Teresa to recommend to Jesus not to kiss him any more!
No body objected when Mother Teresa got corporate hospital treatements instead of prayers. But she did not realize that the lives of children are equally important, and no prayer would cure their disease.
Sister Paulen in Germany refused to answer any questions about the money of Mother Teresa charities.
Dhiru Shah of India mentioned that Mother Teresa aimed to convert as many people as possible to Catholicism.
Arup Chatterjee (Kolkatta)in his book “ The Final Verdict” narrated several facts with first hand experience and documented the evidence.
Sunanda Datta Ray, reputed journalist published articles exposing the behavior of Mother Teresa.
Christopher Hitchens in collaboration with Tariq Ali produced documentary evidence entitled: Hell`s angel.It was telecasted from channel 4 in UK ( Nov 8, 1994)
Christopher Hitchens published a book entitled: Missionary position , which has become eye opener .He wrote this book after visiting Mother Teresa`s charity homes and also after interviewing her.
Of course on the other side Catholics worldwide and Pope , particulary promoted her activities .She received Templeton prize in 1973.
Above all, Mother Teresa received Nobel Prize for peace in 1986.
Mother Teresa was born in 1910 in Uskante, a small town in Macedonia. Her original name was : Agnes Gonxa Bojaxhiu.She joined in Sisters of Lorita and later came to India. Just as Hindu Sanyasis change their original name, just so catholic nuns change their original names. Mother Teresa emerged like that.
Drama after the death:
As usual catholic institution commenced to concoct miracles in the name of Mother Teresa so that she can be canonized as saint. Then big business starts. It is necessary to show two miracles for that purpose.
The story starts!
Monica Basra, a poor tribal woman in west Bengal was suffering from tuberclosis and a cyst was found in her womb. Dr Ranjan Mustafa of Belurghat hospital treated her and acute cyst disappeared after administering medicines for 9 months.She was poor lady and had 5 children. They could not raise them.Catholic nuns took that opportunity , offered her help and free education to her children.They also offered her some land. But she had to say that her disease was cured due to Mother Teresa. How? When Monica saw a hanging locket she found a picture of Mother Teresa in it. That cured her cancer disease. But doctors clarified that she had no cancer and she suffered with tuberclosis .The husband of Monica and the doctor who treated her gave interviews to New York Times correspondent where they told the truth. Later the catholic nuns started concocting stories. Surprisingly the medical records of Monica Basra disappeared from the hospital !
Yet, Pope determined to make her saint which they could not do. But to start with they beatified her and called blessed. Of course, in due course , it is no wonder if they concote another miracle and finally make her saint. That is the regular business of Catholic institution.
I met Mother Teresa in Hyderbad, India during 1975-76 and had brief interview. I did not find any intellectual spark or brilliant point to report in Andhra Jyothi daily ( for which I was bureau chief at that time and Narla Venkateswararao was the editor)
Christopher Hitchens was called to Vatican to give evidence and he promptly went and gave. It all went against Mother Teresa.
By Innaiah Narisetti
References:
1. Mother Teresa: The Final Verdict
Aroup Chatterjee
2. The Missionary Position: Mother Teresa in Theory and Practice
Christopher Hitchens
3. Fox, Robin (1994). "Mother Theresa's care for the dying". The Lancet 344 (8925): 807
4. "Less than Miraculous" by Christopher Hitchens, Free Inquiry 24(2), February/March 2004.
5. Mother Teresa: Where are her millions?", Stern 10 September 1998

Wednesday, August 24, 2016

‘योगेश्वर श्री कृष्ण के विषय में उनके समकालीन प्रमुख ऐतिहासिक पुरुषों की सम्मतियां’



ओ३म्
‘योगेश्वर श्री कृष्ण के विषय में उनके समकालीन प्रमुख ऐतिहासिक पुरुषों की सम्मतियां’
कल 25 अगस्त, 2016 को श्री कृष्ण जी का जन्मोत्सव है। भारत के महान ऐतिहासिक पुरुषों में जो स्थान श्री राम चन्द्र जी और श्री कृष्ण जी को प्राप्त है वह अन्य किसी को नहीं है। इन महापुरुषों के जीवन के आदर्शों के कारण ही मध्यकाल में इन्हें अवतार तक की संज्ञा दे डाली गई जबकि वेदों के अनुसार ईश्वर का अवतार कभी नहीं होता। श्री कृष्ण जी का जीवन और चरित्र न केवल समस्त भारतवासियों अपितु विश्व के सभी लोगों के लिए आदर्श एवं अनुकरणीय है। यदि संसार के लोग श्री कृष्ण को अपना आदर्श पुरुष मान लें तो वह सभी उनके जैसे बन सकते है अन्यथा वह जिसे अपना आदर्श मानेंगे, निश्चय ही उन जैसे ही होंगे। आज जन्माष्टमी पर्व के अवसर पर हम श्री कृष्ण जी के सबंध में उनके समकालीन कुछ ऐतिहासिक प्रमुख हस्तियों महर्षि वेदव्यास, महात्मा भीष्म पितामह, महात्मा विदुर, धर्मराज युधिष्ठिर, कौरव-युवराज दुर्योधन एवं कौरव-राज धृतराष्ट्र की सम्मतियां प्रस्तुत कर रहें है। यह सामग्री हमने ‘दयानन्द सन्देश’ मासिक पत्रिका के ‘योगेश्वर श्रीकृष्ण’ विशेषांक सितम्बर, 1989 से ली है।
महर्षि वेदव्यास
यो वै कामान्न भयान्न लोभान्नार्थकारणात्।
अन्यायमनुवत्र्तेत स्थिरबुद्धिरलोलुपः।
धर्मज्ञो धृतिमान् प्राज्ञः सर्वभूतेषु केशवः।। (महाभारत उद्योग. अ. 83)
पाण्डवों की ओर से दूत रूप में जाने के लिए उत्सुक श्री कृष्ण के विषय में वेदव्यास जी कहते हैं कि श्री कृष्ण लोभ रहित तथा स्थिर बुद्धि हैं। उन्हें सांसारिक लोगों को विचलित करने वाली कामना, भय, लोभ या स्वार्थ आदि कोई भी विचलित नही कर सकता, अतएव श्री कृष्ण कदापि अन्याय का अनुसरण नहीं कर सकते। इस पृथ्वी पर समस्त मनुष्यों में श्री कृष्ण ही धर्म के ज्ञाता, परम धैर्यवान और परम बुद्धिमान हैं।
पितामह भीष्म
ज्ञानवृद्धो द्विजातीनां क्षत्रियाणां बलाधिकः।
पूज्ये ताविह गोविन्दे-हेतु द्वावपि संस्थितौ।।
वेदवेदांगविज्ञानं बलं चाप्यमितं तथा।
नृणां लोकेहि कस्यास्ति विशिष्टं केशवाद् ऋते।। (महाभारत सभा.38 अ.)
धर्मराज युधिष्ठिर के राजसूय-यज्ञ में अग्र पूजा के अवसर पर किसी सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति की पूजा की जानी थी। उस समय श्री कृष्ण का नाम प्रस्तुत करते हुए भीष्म जी कहते है--संसार में पूजा के दो ही मुख्य कारण होते है--ज्ञान और बल। श्री कृष्ण में ये दोनों गुण सर्वाधिक हैं, अतः श्री कृष्ण ही पूजा के योग्य हैं। इस समय संसार में कोई भी मनुष्य ऐसा नहीं है कि ज्ञान तथा बल में श्री कृष्ण से अधिक हो।
महात्मा विदुर
महात्मा विदुर धृतराष्ट्र को समझाते हुए कहते हैं कि हे धृतराष्ट्र ! पृथ्वी पर श्री कृष्ण सबके पूज्य हैं और वे जो कुछ कह रहे हैं वह हम सबके कल्याण की भावना से ही कह रहे हैं। और यह तुम्हारी बड़ी भूल है कि मैं श्री कृष्ण को बहुमूल्य उपहार देकर अपने पक्ष में कर लूंगा। श्री कृष्ण की अर्जुन के साथ जो दृढ़ मित्रता है, उसे आप धनादि के प्रलोभन से समाप्त नहीं कर सकते। (सन्दर्भः महाभारत उद्योगपर्व अध्याय 88)
धर्मराज युधिष्ठिर
महाभारत संग्राम की समाप्ति पर युधिष्ठिर श्री कृष्ण के प्रति कृतज्ञता का भाव प्रकट करते हुए कहते हैं--हे यादवों में श्रेष्ठ तथा शत्रुओं को जीतने में दक्ष श्री कृष्ण ! हमें यह हमारा पैतृक राज्य आपकी कृपा से प्राप्त हुआ है। आपकी शूरवीरता, अद्भुत युद्धनीति, लोकोत्तर बुद्धि कौशल तथा पराक्रम से ही हम इस संग्राम में विजयी हुए हैं, एतदर्थ आपका बार-बार धन्यवाद करते हैं। (महाभारत शान्तिपर्व 43 प्र.)
कौरव-युवराज दुर्योधन
श्री कृष्ण दुर्योधन के विपक्ष में तथा उसको हराने में मुख्य कर्णधार थे। पुनरपि श्रीकृष्ण के प्रति उसके हृदय में बड़ा सम्मान था। स्वयं दुर्योधन महात्मा विदुर के समझाने पर यह स्वीकार करता है--
स हि पूज्यतमो लोके, कृष्णः पृथुललोचनः।
त्रयाणामपि लोकानां विदितं मम सर्वथा।। (महा. उद्योग. 89/5)
हे विदुर जी ! मैं यह भलीभांति जानता हूं कि श्री कृष्ण तीनों लोकों में सर्वाधिक पूज्य हैं।
कुरुराज धृतराष्ट्र
मेरा पुत्र दुर्योघन श्री कृष्ण की महिमा का मोहवश निरादर कर रहा है। श्री कृष्ण में इतने गुण हैं कि उनको गिनाया नहीं जा सकता और इसीलिये उन्हें कोई पराजित नहीं कर सका है।
आर्यसमाज के संस्थापक ऋषि दयानन्द सरस्वती जी की सत्यार्थ प्रकाश में दी गई सम्मति भी महत्वपूर्ण हैं। श्री कृष्ण जी के विषय में वह लिखते हैं कि ‘श्रीकृष्ण का गुण, कर्म, स्वभाव और चरित्र आप्त पुरुषों के सदृश है। श्रीकृष्ण ने जन्म से मरण पर्यन्त कुछ भी बुरा काम किया हो, ऐसा (महाभारतकार महर्षि वेदव्यास जी ने) नहीं लिखा।’
श्री कृष्ण जी के जन्मोत्सव पर सभी को शुभकामनायें और बधाई।
-मनमोहन कुमार आर्य

Wednesday, August 17, 2016

दलित मुस्लिम एकता का पोस्ट मोर्टम



दलित मुस्लिम एकता का पोस्ट मोर्टम

डॉ विवेक आर्य

गुजरात में ऊना की घटना के बाद से विदेशी फंडिंग की मदद से दलितों के उत्थान के नाम पर रैलियां कर बरगलाया जा रहा है। इन रैलियों में दलितों के साथ साथ मुसलमान भी बढ़ चढ़कर भाग ले रहे है।  ऐसा दिखाने का प्रयास किया जा रहा है कि मुसलमान दलितों के हमदर्द है। सत्य यह है कि यह सब वोट बैंक की राजनीती है। दलितों और मुसलमानों के समीकरण को बनाने का प्रयास है जिससे न केवल देश को अस्थिर किया जा सके। अपितु हिंदुओं कि एकता का भी ह्रास हो जाये। देश में दलित करीब 20 फीसदी है और मुस्लमान 15 फीसदी। दोनों मिलकर 35 फीसदी के लगभग। रणनीतिकार ने सोचा है कि दोनों मिलकर एक मुश्त वोट करेंगे तो जीत सुनिश्चित है। क्योंकि सभी जानते है कि बाकि हिन्दू समाज तो ब्राह्मण, क्षत्रिय, बनिया, यादव आदि में विभाजित है। गौरतलब बात यह है कि दलितों को भड़काने वालों के लिए  डॉ अम्बेडकर के इस्लाम के विषय में विचार भी कोई मायने नहीं रखते। डॉ अम्बेडकर ने इस्लाम स्वीकार करने का प्रलोभन देने वाले हैदराबाद के निज़ाम का प्रस्ताव न केवल ख़ारिज कर दिया अपितु 1947 में उन्होंने पाकिस्तान में रहने वाले सभी दलित हिंदुओं को भारत आने का सन्देश दिया। डॉ अम्बेडकर 1200 वर्षों से मुस्लिम हमलावरों द्वारा किये गए अत्याचारों से परिचित थे। वो जानते थे कि इस्लाम स्वीकार करना कहीं से भी जातिवाद की समस्या का समाधान नहीं है। क्योंकि इस्लामिक फिरके तो आपस में ही एक दूसरे कि गर्दन काटते फिरते है। वह जानते थे कि इस्लाम स्वीकार करने  में दलितों का हित नहीं अहित है।

अपने लेखन में इस्लाम के विषय में डॉ अम्बेडकर लिखते है-

मुस्लिम भ्रातृभाव केवल मुसलमानों के लिए-”इस्लाम एक बंद निकाय की तरह है, जो मुसलमानों और गैर-मुसलमानों के बीच जो भेद यह करता है, वह बिल्कुल मूर्त और स्पष्ट है। इस्लाम का भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृत्व है। यह बंधुत्व है, परन्तु इसका लाभ अपने ही निकाय के लोगों तक सीमित है और जो इस निकाय से बाहर हैं, उनके लिए इसमें सिर्फ घृणा ओर शत्रुता ही है। इस्लाम का दूसरा अवगुण यह है कि यह सामाजिक स्वशासन की एक पद्धति है और स्थानीय स्वशासन से मेल नहीं खाता, क्योंकि मुसलमानों की निष्ठा, जिस देश में वे रहते हैं, उसके प्रति नहीं होती, बल्कि वह उस धार्मिक विश्वास पर निर्भर करती है, जिसका कि वे एक हिस्सा है। एक मुसलमान के लिए इसके विपरीत या उल्टे सोचना अत्यन्त दुष्कर है। जहाँ कहीं इस्लाम का शासन हैं, वहीं उसका अपना विश्वास है। दूसरे शब्दों में, इस्लाम एक सच्चे मुसलमानों को भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट सम्बन्धी मानने की इज़ाजत नहीं देता। सम्भवतः यही वजह थी कि मौलाना मुहम्मद अली जैसे एक महान भारतीय, परन्तु सच्चे मुसलमान ने, अपने, शरीर को हिन्दुस्तान की बजाए येरूसलम में दफनाया जाना अधिक पसंद किया।” (बाबा साहेब डॉ. अम्बेडकर सम्पूर्ण वाड्‌मय, खंड १५-‘पाकिस्तान और भारत के विभाजन, २०००)

व्यावहारिक रूप से भी में कुछ घटनाओं का विवरण दे रहा हूँ जिसमें मुसलमान जमीनी स्तर पर दलितों पर अत्याचार करने में लगे हुए है।

1. मुज्जफरनगर के दंगों में मुसलमानों के आक्रोश के कारण दलितों को अपने घर छोड़कर अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ा। तब न उन्हें बचाने मायावती आयी न दलित-मुस्लिम एकता का समर्थन करने वाला कोई दोगला आया। link http://indianexpress.com/article/cities/lucknow/muzaffarnagar-two-years-after-riots-fir-against-12-for-attacking-dalit-family/

2. नवम्बर 13, 2014 शामली के सोनाटा गांव में हैंडपंप से पानी भरने को लेकर दलितों और मुसलमानों के मध्य दंगा हुआ। मुसलमान दलितों को हैंडपंप से पानी भरने से रोक रहे थे। link   http://indiatoday.intoday.in/story/communal-violence-uttar-pradesh-dalit-muslim-clash-sonata-village-matkota-area/1/400498.html

3. मार्च 8, 2016 को वेल्लोर तमिल नाडु में दलितों को तालाब में नहाने पर मुसलमानों ने लड़ाई दंगा किया। link  http://www.thenewsminute.com/article/vellore-tense-trivial-argument-blows-muslim-dalits-clash-39980

4.  फरवरी 24, 2016 को रविदास जयंती के अवसर पर संत रविदास की झाँकी निकालते हुए दलितों पर मुसलमानों ने पत्थर बाजी करी।  जिससे दंगा भड़क गया। link http://www.hindupost.in/news/another-riot-in-up-between-muslims-and-hindu-dalits/

5. दिसम्बर 3, 2015 को मुज्जफरनगर के कताका गांव में मुसलमानों ने दलितों को पीटा। link http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/7-hurt-in-clash-between-dalit-muslim-groups/

ऐसे अनेक उदहारण हमें वर्तमान में मुसलमानों द्वारा दलितों पर हो रहे अत्याचार के मिल सकते है। इसलिए दलित-मुस्लिम एकता केवल एक छलावा है। दलितों को डॉ अम्बेडकर कि बात की अनदेखी कर किसी के बहकावें में आकर अपना अहित नहीं करना चाहिए।

 (संदर्भ चित्र .......बांग्लादेश में दलित हिन्दूओं पर अत्याचार)

Tuesday, August 9, 2016

महर्षि दयानन्द सरस्वति के उपकार



ओ३म्
महर्षि दयानन्द सरस्वति के उपकार
1.) चाहते तो किसी भी बड़े मन्दिर के मठाधीश बनकर अन्य पंडितो की तरह आराम से बैठे बैठे खाते पीते मौज उड़ाते लेकिन ऐसा न करके अपना पूरा जीवन समाज और सनातन धर्म के लिए दान कर दिया। एकलव्य ने सिर्फ अंगूठा दिया था गुरुदाक्षिणा में लेकिन दयानंद ने तो पूरा जीवन दे दिया गुरु दक्षिणा में ।
2.) जिन वेदों को सनातन धर्म की रीढ़ समझा जाता था
उनका लोप हो चुका था लोग वेद शब्द तक को भूल गये थे लेकिन दयानंद ने फिर से वेदों को मानो एक नया जीवन दे दिया था । लोग वेदों को पुनः जानने लगे उन्हें मानने लगे ।
3.) सनातन धर्म में भिन्न भिन्न प्रकार के आडम्बर , पाखंड फ़ैल चुके थे यज्ञ के नाम पर बली चढाई जाती थी दयानंद ने उन सब पाखंडो का विरोध करके उनके खिलाफ अभियान चलाया ताकि समाज सर राष्ट्र इस अन्धकार से निकल कर प्रकाश की तरफ जा सके ।
4.) दयानंद के समय में स्त्री और शुद्र शिक्षा का विरोध किया जाता था लेकिन दयानंद ने स्त्री और शुद्रो की शिक्षा का समर्थन करके उन्हें शिक्षित करके समाज में सम्मान दिलाया ।
5.) भारत भूमि से जिस वैदिक गुरुकुलीय शिक्षा का खात्मा हो चुका था उसका पुनरुत्थान किया ।
6.) इस देश में कोई हिन्दू तो मुसलमान और इसाई बन सकता था लेकिन कोई मुसलमान और ईसाई हिन्दू नहीं बन सकता था । उन्हें हिन्दू धर्म में नही आने दिया जाता था उन्हें अछूत और भ्रष्ट कह कर समाज से नकार दिया जाता था लेकिन दयानंद ने ये बंद रास्ते खोले और शुद्धिकरण की प्रक्रिया चला कर इसाई और मुसलमान बने हुओ को वापिस हिन्दू बनाया । ।
7.) उस काल में भारी स्तर पर गौ हत्या होती थी कत्लखाने चलते थे , लाचार और बेसहारा गायो को कत्ल खानों में छोड़ दिया जाता था । इस से द्रवित होकर दयानंद ने रेवाड़ी में पहली गौशाला खोली । ताकि गौमाता का सरक्षण हो । और भारत से गौ हत्या बंद करवाने के लिए लाखो लोगो के हस्ताक्षर करवा कर ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया को पत्र लिखा ।
8.) उस समय स्तिथि यह थी की हिन्दुओ के जो बच्चे अनाथ हो जाते थे उन्हें कोई सहारा देने वाला नहीं था इसलिए मुसलमान और ईसाई उन्हें बहला फुसला कर इसाई और मुसलमान बना लेते थे । जब दयानन्द को इस बात का पता चला तो उन्होंने अजमेर के अंदर पहला अनाथालय खोला ।
9.) विधुर तो दूसरी शादी कर सकते थे लेकिन विधवाओं को दुसरे विवाह की आज्ञा नही थी लेकिन दयानंद ने विधवा पुनर्विवाह का आन्दोलन चला कर लाखो विधवाओ की मांग में फिर से सिंदूर भरवा दिया ।
10.) भारत उस समय अंग्रेजी शासन की बेड़ियों में जकड़ा हुआ पढ़ा था उस वक्त दयानंद ने सबसे पहले स्वराज्य का नारा दिया और 1857 की क्रांति की नीव रखी और लाखो भारतीयों को स्वतन्त्रता संग्राम की लड़ाई के लिए प्रेरित किया ।
11.) उस समय भारत भिन्न भिन्न भाषाओ में बंटा पड़ा था । जिसके कारण एक कौने से दुसरे कौने में बात रखने के लिए भाषा एक महत्वपूर्ण रोड़ा थी . तब दयानंद ने भाषा की एकता को मुद्दा बनाया और भाषा की एकता का प्रचार किया । और हिंदी को राष्ट्र भाषा बनाने का प्रयास किया उनका मानना था की भाषा की एकता के बिना राष्ट्र का उत्थान कदापि नही हो सकता । इसीलिए उन्होंने हिंदी का विशेष ज्ञान ना होते हुए भी अपने सबसे मुख्य ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश की रचना भी हिंदी में की ताकि आमजन तक यह पहुँच सके।
ऐसे अनेको कार्य दयानंद ने समाज के लिए किये और उस समाज के लिए किये जिसने उसे 17 बार जहर देकर मारने की कोशिश की और अंत में मार भी दिया । उस समाज के लिए किया जिस स्माज ने उसे बार बार प्रताड़ित किया उसके उपर सांप और इंटे फैंकी । लेकिन फिर भी उस व्यक्ति ने कभी किसी को अपशब्द नहीं कहे ।बल्कि दोगुनी ताकत से समाज से भिड़ता रहा ।
- अनुज कम्भोज

आर्यसमाज विश्व चिन्तकों की द्रष्टि में



ओ३म्
*🌷आर्यसमाज विश्व चिन्तकों की द्रष्टि में🌷:-*
🙏१.आर्यसमाज मेरी धर्म माता है तथा ऋषि दयानन्द मेरे धर्म पिता हैं 'सत्यार्थ प्रकाश' का ज्ञान मेरे जीवन में सूर्य के समान है।-लाला लाजपत राय।
२.आर्य समाज ने ब्याज सहित मूल भी वसूल किया,हजारों मलकानों व मेवों की शुद्धि,आर्यसमाज के शुद्धि कार्य में मुख्य स्थान रखती है।-लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल
🙏३.जहां कहीं भी करने योग्य कार्य हैं वहां आर्यसमाज को अनुपस्थित न पाइयेगा।-c.v. चिन्ता मणि
🙏४.आप धर्म में रुढिवादी और राजनीति में पुरोगामी नहीं हो सकते यदि आप मनुष्यों की एकता में विश्वास रखते हैं तो सभी धर्मों का सम्मान करना आवश्यक है,मनुष्यों की सेवा स्वयं एक धर्म है,मुझे आशा है कि आर्य समाज इसी भावना से शिक्षा,समाज और अध्यात्म के क्षेत्रों में अपना कार्यक्रम जारी रखकर राष्ट्र की नींव मजबूत करेगा।-गोविन्द रानाडे
🙏५.आर्यसमाज एक महाक्रान्ति की ज्वाला है।-डेविस
🙏६.आर्य समाज संस्था ने अकेले जितने देशभक्त पैदा किये हैं उतने कोई और नहीं कर सकता।(आर्य समाज को श्रदांजलि अर्पित करते हुए सन् १९७५ ई. में तत्कालीन मुख्यमंत्री-पंजाब ने अम्रतसर में कहा था।)
🙏७.आर्यसमाज वर्तमान हिन्दू विचारधारा का अत्यन्त महत्वपूर्ण और मनोरंजक अध्याय है-सर हेनरी
🙏८.आर्य समाज हिन्दू धर्म के अतीत गौरव की पुन: स्थापना के लिए प्रयत्नशील आन्दोलन है और राष्ट्रीय जागरण का पौषक है।-श्री के० आर० वम्बास
🙏९.आर्य समाज ने लडकों और लडकियों की शिक्षा,स्त्रियों की दशा के सुधार और दलित कहे जाने वाले भाईयों का सामाजिक स्तर ऊँचा उठाने की दिशा में बहुत अच्छा कार्य किया है।-जवाहर लाल नेहरु (डिस्कवरी आफ इन्डिया में)
🙏१०.आर्य समाज ने हिन्दू समाज में रुढिवाद को नष्ट करके उदारता लाने का जो प्रयास किया वह राष्ट्रीय उत्थान में एक बहुमूल्य देन है।-डा० रामबली पाण्डेय
🙏११.आर्य समाज सामाजिक और शैक्षणिक उन्नति की ऐसी योजना प्रस्तुत करता है जिसके बिना वास्तविक उन्नति सम्भव नहीं।-सर हरबर्ड रिसले
🙏१२.आर्य समाज आन्दोलन का एक ऐसा घोषणा पत्र है जिस पर किसी भी बुद्धिजीवी,न्यायप्रिय,अपक्षपाती व्यक्ति आपत्ति करने का साहस नहीं कर सकता।-एमर्सन
🙏१३.दम्भी और निहित स्वार्थ वर्ग द्वारा उत्पन्न की गयी शताब्दियों से चली आ रही भेदभाव पूर्ण कुरीतियों,कुप्रथाओं और रुढियों की जडें समाज में इतनी गहरी चली गयी हैं कि सन्तों महात्माओं और समाज सुधारकों के निरन्तर प्रयास भी उनके उन्मूलन में सफल नहीं हो पाये हैं,महर्षि दयानन्द संसार के उन महान व्यक्तियों में से थे जिनके द्वारा दिया गया बोध समाज को हमेशा प्रकाश देता रहेगा और आर्य समाज उनके आदेशों,सिद्धातों और उपदेशों का समाज में निरन्तर प्रचार प्रसार करता चला आ रहा है ।इससे सारा देश विषेशकर हिन्दू समाज लाभान्वित हो रहा है।-बाबू जगजीवन राम
🙏१४.मिथ्या ढकोसले को जो हिन्दू कही जाने वाली कौम में विद्यमान थी ऋषि दयानन्द के द्वारा स्थापित आर्य समाज ने उसे नितान्त हटा दिया।-मौ० हसरत मुहवनी
🙏१५.यदि आर्य समाज न होता तो आज देश में ईसाई और मुसलमानों की संख्या ज्यादा होती।- स्वामी विवेकानन्द
🙏१६.मैं आर्य समाज को आदरणीय समझ उसे पूज्य द्रष्टि से देखता हूं।-श्री एन० सी० केलकर
🙏१७.मुझे एक आग दिखाई पडती है जो सर्वत्र फैली हुई है अर्थात् असीम प्रेम की आग जो देश को जलाने वाली है।जो प्रत्येक वस्तु को तपाकर शुद्ध कर रही है।हिन्दू,मुसलमान इस प्रचण्ड अग्नि को बुझाने के लिए दौडे परन्तु यह आग इतने वेग से बढी कि सारा संसार ही इसके प्रकाश से प्रकाशित हो गया जिसमें अन्याय,शोषण,सामाजिक कुरीतियाँ आदि सब जलकर राख हो जायेंगी।-एन्ड्रयूज जैक्सन
🙏१८.आर्य समाज कोरे अध्यात्मवाद और निरे भौतिकवाद दोनों का घोर विरोधी है।वह वैदिक धर्म,वर्ण व्यवस्था,वैदिक आश्रम,वैदिक शिक्षा प्रणाली,वैदिक अर्थनीति,वैदिक राजधर्म की छत्र छाया में आर्य चक्रवर्ती साम्राज्य की स्थापना का आन्दोलन है।
इसका स्वरुप इतना व्यापक है कि संसार की कोई भी नीति इसके क्षेत्र से बाहर नहीं हो सकती।
यह आन्दोलन सार्वभौमिक व सार्वदेशिक है।-योगिराज महर्षि अरविन्द घोष
🙏१८.हमारे क्रान्तिकारी विचारों और मानसिक उन्नति के निर्माण में सबसे बडा हाथ आर्य समाज का ही है।-शहीदे आजम-सरदार भगत सिंह
🙏१९.स्वतन्त्रता संग्राम में आर्य समाजियों का बडा हाथ रहा है।~वीर सावरकर
🙏२०.आर्य समाज देश की एकता के लिए कार्य कर रहा है।~अनन्त शयनम अयंगर(पूर्व लोकसभा अध्यक्ष
🙏२१.आर्य समाज के प्रति मेरी शुभ कामनाएं हैं।~श्रीमती एनी बेसेन्ट
🙏२२.हिन्दू जाति का सुधार करने में आर्य समाज का बहुत बडा हाथ है।~सुभाष चन्द्र बोस
🙏२३.गोरे भारत कदापि नहीं छोडते राजी-राजी।
अगर न देते सहयोग देश के आर्य समाजी।।~हास्य कवि:काका हाथरसी
🙏२४.आर्य समाज वह अस्पताल है जिसमें रोगी व्यक्ति भर्ती होते हैं फिर इसमें से पारस मणि बनकर बिल्कुल स्वस्थ निकलते हैं।~महात्मा अमर स्वामी सरस्वती
🙏२५.दुनिया के बिगडों हुओं को आर्य समाज सुधार सकता है परन्तु बिगडे हुए आर्य समाजी को कोई नहीं सुधार सकता।~महात्मा विक्रम वानप्रस्थ
🙏२७.ऋषि दयानन्द ने जो आर्य समाज का कल्प व्रक्ष लगाया है वह मुरझाने न पाये।~स्वामी श्रद्धानन्द
🙏२८.आर्य समाज न होता तो आजादी प्राप्त करना मुश्किल था।~अकबर अली(भूतपूर्व राज्यपाल)
🙏२९.संसार के महापुरुषों ने हमें डूबने से बचाया।
परन्तु महर्षि दयानन्द ने हमें तैरना सिखाया।।~लाजपत राय अग्रवाल(वैदिक मिशनरी)

*🌷ओ३म् की महिमा🌷*



*🌷ओ३म् की महिमा🌷*
वेद ने भी और उपनिषदों ने भी 'ओ३म्' द्वारा प्रभु दर्शन का आदेश दिया है।
यजुर्वेद में कहा है-
*ओ३म् क्रतो स्मर ।।-(यजु० ४०/१५)*
"हे कर्मशील ! 'ओ३म् का स्मरण कर।"
यजुर्वेद के दूसरे ही अध्याय में यह आज्ञा है-
*ओ३म् प्रतिष्ठ ।।-(यजु० २/१३)*
" 'ओ३म्' में विश्वास-आस्था रख !"
गोपथ ब्राह्मण में आता है-
*आत्मभैषज्यमात्मकैवल्यमोंकारः ।।-(कण्डिका ३०)*
"ओंकार आत्मा की चिकित्सा है और आत्मा को मुक्ति देने वाला है।"
माण्डूक्योपनिषद् का पहला ही आदेश यह है-
*ओमित्येतदक्षरमिदं सर्वं तस्योपव्याख्यानम् ।*
*भूतं भवद् भविष्यदिति सर्वमोङ्कार एव ।। १।।*
"यह 'ओ३म्' अक्षर क्षीण न होने वाला अविनाशी है,यह सम्पूर्ण भूत,वर्तमान और भविष्यत् ओंकार का व्याख्यान् है।सभी कुछ ओंकार में है।"
अर्थात् ओंकार से बाहर कुछ नहीं,कुछ भी नहीं।
छान्दोग्योपनिषद् का ऋषि कहता है-
*ओ३म् इत्येतदक्षरमुद्गीथमुपासीत ।*
"मनुष्य 'ओ३म्' इस अक्षर को उद्गीथ समझकर उपासना करे।"
'गोपथ ब्राह्मण' के पूर्वभाग के पहले अध्याय की २२वीं कण्डिका में 'ओ३म्' की उपासना तथा जप का और भी एक रहस्य बतलाया है।वह यह है-
*"ब्राह्मण की यदि कोई इच्छा हो,तो तीन रात उपवास करे और पूर्व की और मुख करके मौन रहकर ,कुशासन पर बैठकर, सहस्र (एक हजार) बार 'ओम्' का जप करे,इससे सारे मनोरथ तथा कर्म सिद्ध होते हैं।"*
'योगदर्शन' समाधिपाद में 'ओ३म्' का जप और उसके अर्थों का चिन्तन करने का आदेश दिया है इसके साथ ही योग-साधना में जो विघ्न आकर खड़े होते हैं,उनको दूर करने का यह उपाय बताया है-
*तत्प्रतिषेधार्थमेकतत्त्वाभ्यासः ।। ३२ ।।*
"उन (विक्षेप-विघ्नों) को दूर करने के लिए एक तत्त्व (ओ३म्) का अभ्यास करना चाहिए।"
*सिक्ख पन्थ और गुरुवाणी में ओ३म् की महिमा*
गुरुनानक जी कहा करते थे-"एक ओंकार सत् नाम"।
इसी ओंकार सत् नाम से गुरुमंत्र निर्मित हुआ।जो इस प्रकार है-
*एक ओंकार सत् नाम कर्ता पुरखु निरभउ,निखैर,अकाल-मूरति,अजूनी,सैभं,गुरु-प्रसादि।"*
अर्थात् एक ओंकार ,सत नाम,वह एक है,ओंकार स्वरुप है,सत्यस्वरुप है,करता पुरुख है,समस्त जड़-चेतन जगत् की उत्पत्ति करता,उसकी पालन-पोषण करता और संहार करता है,निरभउ-भय से रहित है,निरवैर है अर्थात् सबका मित्र है।अकाल मूरति,काल तथा समय से रहित।कालातीत-अपरिवर्तनशील,सदा एकरस,सदा से मौजूद है वह 'अजूनी' अर्थात् किसी योनि से नहीं आया,सैभं अर्थात् वह अपने आप है,उसको उत्पन्न करने वाला कोई नहीं,वह उत्पन्न ही नहीं हुआ वह सदा से मौजूद है और "गुरु-प्रसादि" सच्चे गुरु की कृपा से प्राप्त होता है।
अतः गुरुनानक जी ने भी ओंकार को महत्व दिया है।
गुरु नानक जी कहते हैं ,एक ओंकार सत्य नाम,वह एक है।सत्य नाम है।वह जिस नाम से पुकारा जाता है,वह ओ३म् नाम उसका अपना ही है,वह हमने नहीं दिया और नाम तो मनुष्यों के दिये हुए हैं,वह अपना आप ही है।यह ओम् नाम तो किसी ने नहीं दिया।
यजुर्वेद में कहा है-
*ओ३म् खं ब्रह्म*-(यजु० ४०/१७)
अर्थात् "मैं आकाश की तरह सर्वत्र व्यापक और महान् हूं मेरा नाम ओम् है।"
*अन्य मत मतान्तरों में ओ३म्*
अन्य मत मतान्तरों में भी ओ३म् की महिमा और ओ३म् का परिवर्तित नाम विद्यमान हैं।मुसलमानो़ में आमीन,यहूदियों का एमन,सिक्खों का एक
ओंकार,अंग्रेजों का Omnipresent,Omnipotent,Omniscient ।
सम्पूर्ण विश्व में ही नहीं,सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में ओ३म् शब्द की महिमा है।विपत्ति में,मृत्यु में,ध्यान के अन्तिम क्षणों में बस ओ३म् ही शेष रह जाता है,शेष सब मन्त्र,ज्ञान-विज्ञान धूमिल हो जाता है।पौराणिकों की मूर्तियों व मन्दिरों के ऊपर ओ३म्,आरती में ओ३म्,नवजात शिशु के मुख में ओ३म्,सब स्थानों में ओ३म् ही ओ३म् है

हिंदुओं में एकता की कमी होने का कारण



हिंदुओं में एकता की कमी होने का कारण

डॉ विवेक आर्य

1200 वर्ष का इतिहास उठाकर देखिये। हिन्दू समाज विदेशी आक्रमणकरियों के सामने अपनी एकता की कमी के चलते गुलाम बने। इस सामाजिक एकता की कमी का क्या कारण था? इस लेख के माध्यम से हम हिंदुओं में एकता की कमी के कारणों का विश्लेषण करेगे।

1. हिन्दू समाज में ईश्वर को एक मानने वाले (एकेश्वरवादी), अनेक मानने वाले ( अनेकेश्वरवादी) एवं ईश्वर के अस्तित्व से इंकार करने वाले (नास्तिक) सभी अपनी परस्पर विरोधी मान्यताओं को पोषित करने में लगे रहते हैं। जबकि वेदों में केवल एक ईश्वर होने का विधान बताया गया है। अनेक मत होने के कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

2. हिन्दू समाज अनेक सम्प्रदाय, मत-मतान्तर में विभाजित हैं। हर मत-सम्प्रदाय को मानने वाला केवल अपने मत को श्रेष्ठ, केवल अपने मत को चलाने वाले अथवा मठाधीश को सत्य, केवल अपने मत की मान्यताओं को सही बताता हैं। बहुदा इन मान्यताओं में परस्पर विरोध होता हैं। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

3. हिन्दू समाज में कुछ लोग नारी को श्रेष्ठ समझते है जबकि कुछ निकृष्ठ समझते हैं, कुछ जातिवाद और छुआछूत को नहीं मानते, कुछ घोर जातिवादी है। इस कारण से अनेक हिन्दू समाज के सदस्य धर्म परिवर्तन कर विधर्मी भी बन जाते हैं। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

4. हिन्दू समाज एक जैन भी हिन्दू कहलाता है जिसके अनुसार सर की जूं को मारना घोर पाप है जबकि एक सिख भी हिन्दू है जो झटका तरीके से मुर्गा-बकरा खाना अपना धर्म समझता है। परस्पर विरोधी मान्यताओं के कारण दोनों का आपस में तालमेल नहीं है। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

5. हिन्दू समाज में कोई निराकार ईश्वर का उपासक है। कोई साकार ईश्वर का उपासक है। कोई अपने गुरु अथवा मठाधीश को ही ईश्वर समझता है। कोई पर्वत, पेड़, पत्थर सभी को ईश्वर समझ कर ईश्वर की पूजा करता है। कोई सब कुछ स्वपन बताता है। कोई माया का प्रभाव बताता है। अनेक मान्यताओं, अनेक पूजा-विधियों आदि होने के कारण हिन्दू समाज भ्रमित है। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

6. एक मुसलमान के लिए क़ुरान अंतिम एवं सर्वमान्य धर्म पुस्तक है। एक ईसाई के लिए बाइबिल अंतिम एवं सर्वमान्य धर्म पुस्तक है। एक हिन्दू के लिए वेद, पुराण, गीता, मत विशेष की पुस्तक तक अनेक विकल्प होने के कारण हिंदुओं में एकमत नहीं हैं। सभी अपनी अपनी पुस्तक को श्रेष्ठ और अन्य को गलत बताते है। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।
7. हिन्दू समाज में पूजा का स्वरुप निरंतर बदल रहा है। एक मुसलमान वैसे ही नमाज पढ़ता है, जैसे उसके पूर्वज करते थे। एक ईसाई वैसे ही बाइबिल की प्रार्थना करता है , जैसे उसके पूर्वज करते थे। एक हिन्दू निरंतर नवीन नवीन प्रयोग ही करने में लगा हुआ है। पहले वह वेद विदित निराकार ईश्वर की उपासना करता था। बाद में ईश्वर को साकार मानकर श्री राम और कृष्ण कि मूर्तियां बना ली। उससे पूर्ति न हुई तो विभिन्न अवतार कल्पित कर लिए। प्रयोग यहाँ तक नहीं रुका। आज 33 करोड़ देवी देवता कम पड़ गए। इसलिए साईं बाबा उर्फ़ चाँद मियां और अजमेर वाले ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती की कब्रों पर सर पटकते फिरते है। आगे संभवत सुन्नत करवाने और कलमा पढ़ने की तैयारी है। जहाँ ऐसी अंधेरगर्दी होगी वहां पर एक मत होना असंभव है। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

8. एक ईसाई अगर ईसाई मत छोड़ता है तो पूरे ईसाई मत में खलबली मच जाती है। एक मुसलमान अगर इस्लाम छोड़ता है तो पूरे इस्लाम जगत में फतवे से लेकर जान से मारने की कवायद शुरू हो जाति है। मगर जब कोई हिन्दू धर्म परिवर्तन करता है तो कोई हो-हल्ला नहीं होता। एक सामान्य हिन्दू यह सोचता है कि उसका लोक-परलोक न बिगड़े दूसरे से क्या लेना हैं। यह दूसरे के दुःख-सुख में भाग न लेने की आदत के कारण हिंदुओं में एक मत नहीं है। इस कारण से हिंदुओं में एकता स्थापित नहीं हो पाती।

स्वामी श्रद्धानंद इन्हीं कारणों से हिन्दू धर्म को चूं-चूं का मुरब्बा कहते थे। स्वामी दयानंद के अनुसार जब तक एक धर्म पुस्तक वेद, एक पूजा विधि, एक भाषा प्रचलित नहीं होगी तब तक हिन्दू समाज संगठित नहीं हो सकता।

(हिन्दू समाज का वर्तमान स्वरुप-पंचरंगा अचार)

Sunday, August 7, 2016

क्या आप जानते है कबीर साहिब ने गोरक्षा के लिए अपना विवाह करने से इंकार कर दिया था?



क्या आप जानते है कबीर साहिब ने गोरक्षा के लिए अपना विवाह करने से इंकार कर दिया था?

हमारे देश के इतिहास में अनेक महापुरुष हुए है जिन्होंने विपरीत परिस्थितियों होते हुए भी गौ रक्षा के लिए तन-मन एवं धन से सहयोग किया। गुजरात के ऊना में हुई घटना को सामाजिक रूप से हल निकालने के स्थान पर उसका राजनीतिकरण कर दिया गया। हिन्दू समाज जो पहले ही छुआछूत के चलते दीमक लगे पेड़ के समान खोखला हो चूका है। हिन्दू समाज के अभिन्न अंग दलित समाज में कुछ तथाकथित नेता अपने वोट बैंक बनाने के पीछे दलित-मुस्लिम गठजोड़ तक बनाने से पीछे नहीं हट रहे। जबकि देश का इतिहास उठा कर देखिये। मुस्लिम आक्रांताओं ने हिन्दू ब्राह्मण हो या दलित सभी पर अवर्णनीय अत्याचार किये है। दलित समाज सुधारकों में रविदास, कबीर, बिरसा मुंडा से लेकर डॉ अम्बेडकर अनेक प्रसिद्द नाम है।

दलित संतों एवं समाज सुधारकों ने गोरक्षा के लिए सामाजिक सन्देश दिया। आज इसके विपरीत ऊना की घटना को लेकर अपने आपको दलित विचारक कहने वाले लोग गौ के सम्बन्ध में उलटे सीधे कुतर्क दे रहे है। सत्य यह है कि दलितों के नाम पर राजनीती करने वाले लोग असल विदेशी चंदे पर पलने वाली जमात है। ये लोग ईसाईयों और मुसलमानों के हाथों की कठपुतली मात्र है। इनका काम केवल दलितों को आक्रोशित कर उन्हें हिन्दू समाज से अलग करना है। एकता में शक्ति है। हिन्दू समाज को अपनी शक्ति को बचाना है तो जातिवाद का नाश करना होगा।

इस लेख में हम सिद्ध करेंगे कि कबीर साहिब ने गोरक्षा करने के लिए अपना विवाह तक करने से इंकार कर दिया था।

एक दिन गोसाईं कबीर पूरब की धरती नगर बनारस में रहते थे। जब कबीर अठारह बरस के भए तो उनके माता-पिता ने विचारा कि इसका ब्याह कर दिया जाए। कबीर बहुत उदासीन हो रहा है, क्या पता ब्याहे का मन टिक जाए, कबीर को ब्याह ही दें।

जहां पर कबीर को बुलवाया गया था, वहां पर कबीर का होने वाला ससुर पूछने लगा : अरे भाई समधियो ! इसे हमारे यहां ब्याह दो। तब कबीर के मां-बाप ने कहा कि भला होए जी ! चलिए ब्राह्मण से जा कर पूछते हैं, जो साहा जुड़े वह साहा मान लेते हैं।

तब कबीर का पिता और ससुर उठ खड़े हुए और मिल कर ब्राह्मण के पास गए। पत्री कढाई, साहा निर्मल निकला, ब्राह्मण से साहा जुड़ाया, साहा जोड़- बांध कर दोनों के हाथ में थमा दिया गया। उसे लेकर कबीर का पिता और भावी ससुर अपने-अपने घर चले आए।

अनाज की सामग्री एकत्र की जाने लगी। घी-शक्कर लिया, चावल-दही लिया। और कबीर का जो काका था, कबीर के बाप का छोटा भाई, तिसको काका कहते हैं। वह कबीर जी का काका जाकर एक गाय मोल ले आया वध करने के निमित्त। तब परिवार के लोग कह उठे कि कबीर का काका एक गाय वध करने को ले लाया है।

जब गोसाईं कबीर ने सुना कि काका जी गाय वध करने को ले आया है, तब कबीर बाहर आए। जब देखा कि काका जी गाय ले आया है, तब कबीर जी ने पूछा : ऐ काका जी ! यह गऊ तुम काहे को लाए हो। तब कबीर के काका ने कहा : कबीर ! यह गऊ वध करने को लायी गई है।

तब कबीर ने यह बानी बोली राग गुजरी में :

काका ऐसा काम न कीजै।
इह गऊ ब्रहमन कउ दीजै।। रहाउ ।।

तिसका परमार्थ : तब गोसाईं कबीर ने कहा : काका जी ! यह गऊ वध नहीं करनी है, यह गऊ ब्राह्मण को दे दीजिए। यह गऊ वध करने योग्य नहीं, ब्राह्मण को देने योग्य है। तब गोसाईं कबीर के काका ने कहा : गाय वध किए बिना हमारा कारज नहीं संवरता। यहां बहुत लोग जुड़ेंगे। जब गोवध करेंगे तब ही किसी

महमान आए का आदर होगा। तुम यह गोवध मना मत करो।
तब गोसाईं कबीर ने यह बानी बोली :

रोमि रोमि उआ के देवता बसत है।। ब्रहम बसै रग माही।
बैतरनी मिरतक मुकति करत है। सा तुम छेदहु नाही।।

तिसका परमार्थ : तब गोसाईं कबीर ने कहा : काका जी ! तुम इस गऊ के गुण
सुन लो। इस गऊ के जितने रोम हैं, इसके रोम-रोम में देवता बसते हैं। और इसकी रगों में स्वयं ब्रह्म ही बसता है। और जी ! इसका एक यह बड़ा गुण है कि वैतरणी मृतक चलते-चलते ब्राह्मण को मिलती है। तब उस मृतक को वह गऊ भव जल तार देती है। ऐसी यह गऊ है जी। इस गऊ का नाम भवजल-तारिणी है जी। इस गऊ का वध करना ठीक नहीं। यह गऊ तुम ब्राह्मण के प्रति धर्मार्थ दे दो जी।
काका कहने लगा : तू यह कहता है कि यह गऊ ब्राह्मण को दे दो और हमारे बड़े बुज़ुर्ग इसे कोह=मार कर लोगों को खिलाते थे। हमें भी उसी राह चलना चाहिए। यदि ऐसा नहीं करेंगे तो लोग कहेंगे कि ये गुमराह हो गए हैं, इनसे यह चीज़ होने को न आई। कबीर जी ! गऊ वध करनी ही भली है। इसे, छोड़ देना हमें समझ नहीं आता। बलिहारी जाऊं कबीर जी ! यह गुनाह हमें बख़्शो जी।

तब गोसाईं कबीर ने यह बानी बोली :
दूधु दही घृत अंब्रित देती। निरमल जा की काइआ।

गोबरि जा के धरती सूची। सा तै आणी गाइआ।।

तिसका परमार्थ : तब गोसाईं कबीर ने कहा : सुनिए काका जी ! यह गाय जो है सो कैसी है, पहले इसका गुण सुन लें कि यह गाय कैसी है। यह गाय ऐसी है जी : यह दूध देती है, तिसका दही होता है जी। दूध से खीर होती है। दही से अमृत वस्तु घृत निकलता है जी। उस से सब भोजन पवित्र होते हैं जी। देवताओं-सुरों नरों को भोग चढ़ता है। इस घृत का धूप वैकुण्ठ लोक जाता है। ठाकुर जी को दूध-दही-घृत भोग चढ़ता है जी और इस गऊ की काया जो है सो निर्मल है। जी ऐसी निर्मला यह गऊ है जिसके गोबर से धरती पवित्र होती है, उसका तुम बुरा चाहते हो ! सो इस बात में तुम्हारा भला नहीं। बलिहार जाऊं काका जी ! यह गऊ तुम ब्राह्मण को दे दो जी, वध करने में भला नहीं।

तब फिर उन कबीर के बाबा=पिता और चाचा ने कहा : जिन शरीकों=रिश्तेदारों भाइयों के यहां हमने यह वस्तु खायी थी वह तो उनको भी खिलानी चाहिए। यदि हम उन्हें यह खिलाएंगे नहीं तो वे उठ जाएंगे। अतः पुत्र जी ! गऊ अवश्य वध करनी चाहिए। ऐसे हमारी इज़्ज़त नहीं रहती।

तब गोसाईं कबीर ने यह बानी बोली :

काहे कउ तुमि बीआहु करतु हउ । कहत कबीर बीचारी।
जिसु कारणि तुमि गऊ बिणासहु। सा हमि छोडी नारी।।

तिसका परमार्थ : तब गोसाईं कबीर ने कहा : सुनिए बाबा-काका जी ! तुम जो हमारा ब्याह करते हो सो किस कारण करते हो जी। जिस कारण तुम गऊ विनाशते हो जी कि हमारा कारज संवरे, वह तुम अपना कारज रख छोड़ो। हमने वह स्त्री ही छोड़ी तो तुम किसका ब्याह करते हो। हमने वह नारी ही छोड़ दी।

अजी ! तुम जानो और तुम्हारा ब्याह। हमने तो वह नारी ही छोड़ दी जी।
इस प्रकार जब गोसाईं कबीर कुपित हो उठे, तब उन सभी का अभिमान छिटक गया। उन्होंने आपस में मसलत करी कि जिस कबीर ने यह बात कही है वह ब्याह न करेगा। आओ अब यह गऊ ब्राह्मण को दे दें और हम सीधा अनाज करें जैसा कबीर कहता है।

तब कबीर गोसाईं के पास परिवार के सब लोग मिल कर आए और बोले : भला हो कबीर जी ! जैसा तेरा जी है वैसा ही करेंगे। यह गऊ ब्राह्मण को दीजिए जी। और जो प्रसाद=भोजन तुम कहते हो हम वही प्रसाद सेवन करेंगे जी। बस ! तुम अब स्त्री न छोड़ो जी, अब तुम स्त्री ब्याह लो।

तब गोसाईं कबीर ने कहा : न बाबा जी ! हमारे मुख से निकल चुका है, सो अब मैं स्त्री नहीं ब्याहता। तब जितना परिवार था सब कबीर जी को निवेदन करने लगे कि ना जी ! अब हमने गऊ छोड़ दी तो तुम स्त्री न छोड़ो जी।

तब गोसाईं कबीर ने कहा : मैं स्त्री तभी न छोड़ूंगा जी जब तुम स्त्री के मां-बाप को भी जाकर कहो कि गोवध नहीं करना। यदि तुम्हारे कहने लगकर वे गोवध नहीं करेंगे तो मैं उस स्त्री से ब्याह कर लूंगा। यदि वे गोवध करेंगे तो मैं वहां न जाऊंगा, न ही मैं वह स्त्री ब्याह कर लाऊंगा।

तब उन्होंने कहा : भला हो जी ! वे लोग चलते-चलते उनके पास पहुंचे और बोले : भाई रे ! हमने जो गऊ वध के लिए लायी थी वह कबीर ने ब्राह्मण को दिलवा दी। उन्होंने सारी बात कह सुनाई कि यह बात ऐसे-ऐसे घटी है। अब कबीर कहता है कि हमारे सास-ससुर को कहो कि हम तब ही तुम्हारे घर आवेंगे जब तुम गोवध न करोगे।

तब उन लोगों ने कहा : भाड़ में जाए वह बात जो कबीर जी को न भावे। हम तो तुम्हारे लिए ही गोवध करने वाले थे। क्यों जी ! जब तुम्हीं ख़ुश हो तो हम गोवध नहीं करेंगे।

तब कबीर के परिवारी लोग बोले : हमें इस बात में खरी ख़ुशी होगी, यदि तुम लोग गोवध न करो।

तब सब मिल कर कबीर जी के पास लौट आए। माता-पिता और सास-ससुर सबने आकर नमस्कार किया और कहा : कबीर जी ! जो तुमने कहा वह हम सबने मान लिया। हमने गाय छोड़ दी जी। पर अब तुम जो आज्ञा करोगे हम वैसा ही प्रसाद बनाएंगे बारात के आवभगत के लिए।

तब गोसाईं कबीर ने कहा : अब तुम यही प्रसाद करो : यही शक्कर-भात-घी-दही मिश्रित प्रसाद करो। तुम्हारा भला होगा।

तब उन लोगों ने गोसाईं कबीर से कहा : भला जी ! हम यही प्रसाद बनाएंगे जी। पर जी ! अब तो तुम्हें ख़ुशी है न हमारे ऊपर।

तब गोसाईं कबीर ने कहा : तुम्हारे ऊपर ठाकुर जी की ख़ुशी है, तुम्हारा भला होगा।

तब वे सास-ससुर अपने घर चले गए। इधर बाबा-काका-परिवार के सब लोग ख़ुश हुए।
इस प्रकार गोसाईं कबीर ब्याहे गए और राम-नाम स्मरण करने लगे। ०
जनमसाखी भगत कबीर जी की

मूल पंजाबी रचयिता : सोढी मनोहरदास मेहरबान
रचनाकाल : १६६७ विक्रमी, साखी नं• ४ का अनुवाद
हिन्दी अनुवादक : राजेन्द्र सिंह

#UnaDalit

Monday, August 1, 2016

*🌷गुणों के धनी-श्रीकृष्ण🌷*



*🌷गुणों के धनी-श्रीकृष्ण🌷*
*दुर्योधन-*यह मैं अच्छी प्रकार जानता हूं कि तीनों लोकों में इस समय यदि कोई सर्वाधिक पूज्य व्यक्ति है तो वह विशाल-लोचन श्रीकृष्ण हैं।-(महाभारत उद्योगपर्व ८८/५)
*धृतराष्ट्र-*श्रीकृष्ण अपने यौवन में कभी पराजित नहीं हुए।उनमें इतने विशिष्ट गुण हैं कि उनकी परिगणना करना सम्भव नहीं है।-(महा० द्रोणपर्व १८)
*भीष्म पितामह-*श्रीकृष्ण द्विजातीयों में ज्ञानवृद्ध तथा क्षत्रियों में सर्वाधिक बलशाली हैं।पूजा के ये दो ही मुख्य कारण होते हैं जो दोनों श्रीकृष्ण में विद्यमान हैं।वे वेद-वेदांग के अद्वितीय पण्डित तथा बल में सबसे अधिक हैं।दान,दया,बुद्धि,शूरता,शालीनता,चतुराई,नम्रता,तेजस्विता,धैर्य,सन्तोष-इन गुणों में केशव से अधिक और कौन है ?-(महा० सभा० ३८/१८-२०)
*वेदव्यास-*श्रीकृष्ण इस समय मनुष्यों में सबसे बड़े धर्मात्मा,धैर्यवान् तथा विद्वान् हैं।-(महा० उद्योग० अध्याय ८३)
*अर्जुन-*हे मधुसूदन ! आप गुणों के कारण 'दाशार्ह' हैं।आपके स्वभाव में क्रोध,मात्सर्य,झूठ,निर्दयता एवं कठोरतादि दोषों का अभाव है।-(महा० वनपर्व० १२/३६)
*युधिष्ठिर-*हे यदुवंशियों में सिंहतुल्य पराक्रमी श्रीकृष्ण ! हमें जो यह पैतृक राज्य फिर प्राप्त हो गया है यह सब आपकी कृपा,अद्भुत राजनीति,अतुलनीय बल,लोकोत्तर बुद्धि-कौशल तथा पराक्रम का फल है।इसलिए हे शत्रुओं का दमन करने वाले कमलनेत्र श्रीकृष्ण ! आपको हम बार-बार नमस्कार करते हैं।-(महा० शान्तिपर्व ४३)
*बंकिमचन्द्र-*उनके(श्रीकृष्ण)-जैसा सर्वगुणान्वित और सर्वपापरहित आदर्श चरित्र और कहीं नहीं है,न किसी देश के इतिहास में और न किसी काल में।-(कृष्णचरित्र)
*चमूपति-*हमारा अर्घ्य उस श्रीकृष्ण को है,जिसने युधिष्ठिर के अश्वमेध में अर्घ्य स्वीकार नहीं किया।साम्राज्य की स्थापना फिर से कर दी,परन्तु उससे निर्लेप,निस्संग रहा है।यही वस्तुतः योगेश्वर श्रीकृष्ण का योग है।-(योगेश्वर कृष्ण,पृष्ठ ३५२)
*स्वामी दयानन्द-*देखो ! श्रीकृष्णजी का इतिहास महाभारत में अत्युत्तम है।उनका गुण-कर्म-स्वभाव और चरित्र आप्त पुरुषों के सदृश है,जिसमें कोई अधर्म का आचरण श्रीकृष्ण जी ने जन्म से लेकर मरण-पर्यन्त बुरा काम कुछ भी किया हो,ऐसा नहीं लिखा।
*लाला लाजपत राय ने अपने श्रीकृष्णचरित में श्रीकृष्ण के सम्बन्ध में एक बड़ी विचारणीय बात लिखी है-"संसार में महापुरुषों पर उनके विरोधियों ने अत्याचार किये,परन्तु श्रीकृष्ण एक ऐसे महापुरुष हैं जिन पर उनके भक्तों ने ही बड़े लांछन लगाये हैं।श्रीकृष्णजी भक्तों के अत्याचार के शिकार हुए हैं व हो रहे हैं।"आज श्रीकृष्ण के नाम पर 'बालयोगेश्वर' 'हरे कृष्ण हरे राम' सम्प्रदाय,राधावल्लभ मत और न जाने कितने-कितने अवतारों और सम्प्रदायों का जाल बिछा है,जिसमें श्रीकृष्ण को भागवत के आधार पर 'चौरजार-शिखामणि' और न जाने कितने ही 'विभूषणों' से अलंकृत करके उनके पावन-चरित्र को दूषित करने का प्रयत्न किया है।कहाँ महाभारत में शिशुपाल-जैसा उनका प्रबल विरोधी,परन्तु वह भी उनके चरित्र के सम्बन्ध में एक भी दोष नहीं लगा सका और कहाँ आज के कृष्णभक्त जिन्होंने कोई भी ऐसा दोष नहीं छोड़ा जिसे कृष्ण के मत्थे न मढ़ा हो! क्या ऐसे 'दोषपूर्ण' कृष्ण किसी भी जाति,समाज या राष्ट्र के आदर्श हो सकते हैं?*

अम्बेडकरवादियों की चुप्पी और चिल्लाना



अम्बेडकरवादियों की चुप्पी और चिल्लाना
आगरा में दलित VHP नेता अशोक महोर की हत्या मुस्लिम गुंडों ने कर दी। सभी अम्बेडकरवादी चुप।
पुणे में दलित युवक सावन को मुस्लिम दंगाइयों ने जिन्दा जला कर मार डाला। सभी अम्बेडकरवादी चुप।
केरल में निर्भय कांड जैसी वीभत्स घटना को अंजाम देने वाले अमीरुल इस्लाम ने दलित लड़की के शरीर पर 38 घाव देने के बाद बलात्कार कर मार डाला।सभी अम्बेडकरवादी चुप।
कैराना में मुसलमानों ने दलित लड़की का सामूहिक बलात्कार कर सकी हत्या कर दी। सभी अम्बेडकरवादी चुप।
मुज्जरनगर दंगों में मुसलमानों के कारण दलितों को घर बार छोड़कर भागना पड़ा। सभी अम्बेडकरवादी चुप।
मुसलमानों ने बांग्लादेश में एक दलित हिन्दू दर्जी निखिल चन्द्र की हत्या कर दी।सभी अम्बेडकरवादी चुप।
अम्बेडकरवादी कब चिल्लाते है-
याकूब मेनन को मुंबई बम धमाके में फांसी की सजा हुई। अम्बेडकरवादी याकूब के समर्थन में खूब चिल्लाए।
अफ़जल गुरु को सांसद हमले के दोष में फांसी की सजा हुई। अम्बेडकरवादी अफ़जल के समर्थन में खूब चिल्लाए।
दादरी में अक़लाख की गौमांस खाने के चक्कर में हत्या हुई। अम्बेडकरवादी अख़लाख के समर्थन में खूब चिल्लाए।
JNU में उमर खालिद ने भारत विरोधी देशद्रोही नारे लगाए। अम्बेडकरवादी उमर खालिद के समर्थन में खूब चिल्लाए।
यह दलित मुस्लिम गठजोड़ भी बड़ा कमाल है। दलितों का जमीनी स्तर पर कितना भी उत्पीड़न होता रहे। अम्बेडकरवादियों को कोई अंतर नहीं पड़ता। परन्तु देशद्रोही और संविधान तोड़ने वाले मुसलमानों के समर्थन में वे चिल्लाने से पीछे नहीं हटते।
डॉ विवेक आर्य
(देशहित में जारी)